शनिवार, मई 27, 2017

मानहानि कि अपमान में इजाफा


हम गवां उसी चीज को सकते हैं जो हमारे पास होती है. जैसे अगर रुपया है ही नहीं, तो उसे आप गवां कैसे सकते हैं? बाल अगर हैं ही नहीं सर पर, तो उसकी हानि कैसे होगी.
मात्र मान (इज्जत) ऐसी चीज है जिसकी हानि उसके बिना हुए भी होती रहती है. यह हानि भी संसद की केन्टीन में सस्ते खाने से लेकर हवाई जहाज के बिजनेस क्लास में फ्री चलने की तरह ही सिर्फ नेताओं के लिए आरक्षित है.
जैसे व्यापार में हुये लॉस को निगेटिव प्राफिट भी कहते हैं, वैसे ही मानहानि को आपमान में वॄद्धि भी कह सकते हैं. लेकिन नेताओं को पब्लिक में यह कहना अच्छा नहीं लगता, इस हेतु मानहानि को जुमले के तौर पर इस्तेमाल किये जाने का फैशन है.
जैसे ही कोई विरोधी नेता किसी नेता के अपमान में वृद्धि करता है, नेता तुरंत कोर्ट में मानहानि का दावा ठोंक देता है मय हर्जाने में १० करोड़ के.
अब हैरान कोर्ट होती है और पौ बारह मीडिया की. अव्वल तो यह आँकना कि जो इनके पास था ही नहीं, उसकी हानि कैसे हो गई और शोध का विषय यह कि इस हानि का मूल्य १० करोड़ कैसे आँका गया?
खैर मानहानि तो जाँच के बात पता चली कि इनके अपमान की वॄद्धि को नाम दिया गया था. उसने इन्हें काला चोर कह दिया था. जबकि पूर्व में वे मात्र चोर जाने जाते थे. यहाँ तक तो बात समझ में आई. चोर ही कहते रहते तो न इनके अपमान मे वृद्धि होती और न ही मानहानि का मुकदमा झेलना पड़ता. अब शोध विषय बच रहा कि दस करोड़ की कीमत मात्र चोर से काला चोर प्रमोट हो जाने पर? वो कैसे?
नाम न बताये जाने की शर्त पर उनके खासमखास ने खुलासा किया कि कोई नेता जी पर भूले से भरोसा करने वाला व्यापारी उनके के पास १० करोड़ की निगेटिव सफेद रकम सुरक्षा की दृष्टि से कुछ समय के लिए इनके पास रखवा कर जाने वाला था ताकि आयकर के छापे का मौसम गुजरते ही वापस ले जायेगा. इससे सुरक्षित स्थान और भला क्या हो सकता था. उसने जब सुना कि नेता जी काले चोर हैं तो उसने मन बदल दिया और वो रकम कहीं और ठिकाने लगा दी.
नेता जी पास रख कर जाता तो ऐन केन प्रकारेण उसे नेता जी दबा ही लेते. अतः मानहानि के हर्जाने के रुप में उनको यह दिलाये जाये. बात तो पते की है.
तुलसी दास कह गये हैं:
हानि लाभु जीवनु मरनु जसु अपजसु बिधि हाथ..
बिधि मतलब विधाता और हमारे यह नेता खुद को किसी विधाता से कम तो कभी आँकते नहीं इसलिए जसु अपजसु याने मान अपमान, हानि लाभु मतलब हानि लाभ...सब विधाता का खेल है..
आप आम जन बस तमाशा देखें,ध्यान रहे कि यह खेल आपके लिए नहीं है.

-समीर लाल समीर

भोपाल से प्रकाशित सुबह सवेरे अखबार में मई २८, २०१७ को प्रकाशित:
http://epaper.subahsavere.news/c/19363813

#jugalbandi
#जुगलबन्दी
Indli - Hindi News, Blogs, Links

शनिवार, मई 20, 2017

शीर्षक विहीन


जनता के बिना किसी नेता की कल्पना करना भी संभव नहीं. नेता होने के लिए जनता का होना जरुरी है. भक्त न भी हों तो भी चलेगा. भक्त नेतागिरी में नया कान्सेप्ट है. इससे पहले इनके बदले पिछ्लग्गु एवं चमचे हुआ करते थे. भक्त भगवान के होते थे. अब पिछ्लग्गु ही भक्त कहलाते हैं या नेता भगवान हो लिए हैं, यह तो ज्ञात नहीं मगर युग बदला जरुर है. वैसे नेता की कल्पना कुर्सी, माईक, भाषण, मंच के बिना करना भी कहाँ संभव है. भाषण भले वक्त के हिसाब से बदलता रहे मगर रहेगा लोक लुभावन और जुमलेबाजी से भरपूर ही. बेहतरीन वादों, अपवादों, आक्षेपों से भरापूरा भाषण सड़क से संसंद तक का मार्ग प्रशस्त करता है.
खैर, छोड़िये इन नेताओं की. सोच कर देखें बिना बहते पानी की नदी? नहीं सोच सकते न? अब वो दिल्ली की यमुना को मत बीच में लाईये. वो अब नदी नहीं, राजनीति का माध्यम है जैसे कश्मीर एक राज्य न होकर...और कर्नाटक में कावेरी का जल पानी न होकर..  और हाँ, भारतीय हैं तो चुप तो रह नहीं सकते..सीधे बात मान जायें तो नाक न कट जायेगी..इसलिए बोलेंगे जरुर कि आग का भी दरिया होता है..सुना नहीं है क्या?  
ये इश्क नहीं आसां, इतना तो समझ लीजिये
एक आग का दरिया है ,और डूब के जाना है..
अब आपको क्या बतायें..यह वाला दरिया शायरों की उड़ान है, उनका क्या वो तो महबूबा के बदन पर आसमान से चाँद और सितारें लाकर टांक दें. शायर फेंकने पर आ जाये तो उनके सामने तो नेता के जुमले भी मंच छोड़ कर भाग खड़े हों. ५६ इंच का सीना क्या टिकेगा भला उस सीने के सामने जिस सीने में बंदे ने जमाने भर का दर्द छिपा रखा है अपनी दिलरुबा को खुश देखने के लिए..
ऐसी ही क्या कभी बिना शीर्षक के कुछ लिखा जा सकता है? लेखक को हर वक्त एक विषय की तलाश रहती है और उस विषय की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए एक जानदार शीर्षक की. बिना शीर्षक आप ५०० शब्दों का भी अगर कुछ लिख कर छाप दो, तो कोई क्यूँ पढ़ना शुरु करेगा? उसे मालूम तो पड़ना चाहिये कि क्या पढ़ रहा है!!
इसलिए आज चूँकि हमारे पास शीर्षक नहीं है.. याने की शीर्षक विहिन हैं..अतः सोच रहे हैं कि कुछ न लिखें..कौन पढ़ेगा ऐसे में?
मगर ये क्या, आपने तो फिर भी पढ़ ही लिया..आप जैसे प्रबुद्ध पाठक होते ही कितने है इस जहां में..  

-समीर लाल ’समीर’
#Jugalbandi
#जुगलबंदी
Indli - Hindi News, Blogs, Links

गुरुवार, मई 18, 2017

कृप्या यहाँ पर अपना ज्ञान न बांटे, यहाँ सभी ज्ञानी हैं


हमारे शहर की पान की दुकान पर एक बोर्ड लगा हुआ है कि कृप्या यहाँ पर अपना ज्ञान न बांटे, यहाँ सभी ज्ञानी हैं.
ज्ञानी के ज्ञानी होने के लिए मूर्खों का होना अति आवश्यक है. सोचिये अगर सभी अच्छे हों और कोई बुरा हो ही न तो अच्छा होने की कीमत तो दो कौड़ी की न रहेगी.
एक अमीर दूसरे अमीर को सलाम नहीं ठोकता. अमीर को सलाम ठोकने के लिए गरीब का होना आवश्यक है.
यह बड़ी बेसिक सी बात है. अब यदि कोई इतना भी न समझे तो हम क्या करें.
एक जमाना वो था कि जब हम कहीं यदि हवाई जहाज से जाते थे तो पूरे शहर को यह खबर जाने के एक महिने पहले से और आने के एक महिने बाद तक किसी न किसी बहाने से सूचित करते रहते थे. हालत ये थे कि धोबी को भी कपड़े देते वक्त हिदायत दे देते थे कि समय पर धोकर ला देना, फलानी तारीख को बाहर जा रहे हैं हवाई जहाज से. और एक जमाना आज का है कि पता चलता है वो धोबी ही अपने से अगली सीट पर बैठा हवाई जहाज से शिमला चला जा रहा है छुट्टी मनाने स्लिपर पहने.
महत्वपूर्ण की महत्ता ही अमहत्वपूर्ण लोगों से होती है. यदि सभी महत्वपूर्ण हो लिए तब तो समारोहों में सामने वाली कुर्सियों के लिए मारा काटी मच जायेगी. लाल किले पर १५ अगस्त को गणेश खोमचा वाले सबसे सामने बैठे हैं और मित्र बराक ओबामा स्टैंड में भीड़ के बीच खड़े भाषण सुन रहे हैं.
रेडिओ पर यह सुनते ही कि अब समय आ गया है, जब वीआईपी संस्कृति को बदलकर ईपीआई (हर व्यक्ति महत्वपूर्ण) कर दिया जाए, रमलू चपरासी घर के रास्ते पर सीना चौड़ा किये निकल पड़ा और सामने से आते रिक्शे वाले को चांटा रसीद कर दिया. देखते नहीं कि हम आ रहे हैं. तुमको हमारे रास्ते में नहीं आना चाहिये, हम महत्वपूर्ण व्यक्ति हैं. रेडिओ नहीं सुनते क्या? अभी बोल कर चुप भी न हो पाये थे रिक्शे वाले ने पलट कर चांटा रसीद कर दिया..हम भी महत्वपूर्ण है, तुमको रास्ता छोड़ना चाहिये था. रेडिओ ध्यान से सुना करो.
अजब सा माहौल पैदा कर दिया है इनकी इस घोषणा ने.
जिसे देखो वो ही महत्वपूर्ण हो गया मानो कि महत्वपूर्ण न हुए हमारे जमाने के एल आई सी एजेन्ट हो गये..जिसे देखो वो ही एल आई सी एजेन्ट होता था.
अब तो जी कर रहा है कि जनहित में खुद से ही मना कर दूँ कि जी, हम महत्वपूर्ण नहीं हैं...कम से कम सामने वाले की महत्ता ही बन जाये.
-समीर लाल ’समीर’



Indli - Hindi News, Blogs, Links

शनिवार, मई 13, 2017

टॆलीफोन



टॆलीफोन विषय पर यह निबंध क्लास ५ की रंजू की उत्तर पुस्तिका से उड़ाया है.
टॆलीफोन मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं. एक आई फोन, दूसरा सेमसंग और तीसरा अन्य.
इसे ऐसे समझे जैसे भारत में तीन प्रकार के लोग होते हैं- एक नेता, दूसरे उनसे गाढ़े संबंध रखने वाले व्यापारी और बाकी के अन्य.
आई फोन एक स्टेटस सिंबल..सब कुछ इन्हीं के इर्द गिर्द नाचता, सेमसंग गुणवत्ता का प्रतीक ये न टेका लगाये तो स्टेटस वालों की स्टेटस भी न बन पाये और बाकी चायनीज फोन से लेकर नोकिया तक अन्य..हैं तो ठीक ..न हैं तो ठीक..काम हैं आई फोन और सेमसंग को उनके उचित स्थान पर बनाये रखना.
फोन हमारे जीवन में बहुत उपयोगी हैं. फोन का मुख्य इस्तेमाल स्लेफी लेना है. इस्तेमाल की द्वितीय पायदान पर स्लेफी को शेयर करने से लेकर औरों की फोटो खींचना, चैट, व्हाटसएप, एस एम एस, फेसबुक, नेट, इन्स्टाग्राम, ट्वीटर, पिन, वेब सर्फिंग, नेवीगेशन, स्काईप, फेस टाईम आदि है. इस्तेमाल की एक प्रमुख कड़ी जो दूसरी पायदान को बराबरी से शॆयर कर रही है वो है एम एम एस बनाकर ओर बात रिकार्डिंग कर के ब्लैक मेल करना है. तीसरी पायदान पर गाने सुनना है. इसके बाद ऑन लाईन आर्डर, मूवी टिकिट,  बैंकिंग, रेल्वे से हावाई जहाज की यात्रा आदि आता है. चौथी ओर अन्य पिछड़ी पायदानों पर मौसम की जानकारी, केलकूलेटर एप के बाद ऑन लाईन पोलिंग, गेम्स और  मिस्ड काल का नम्बर आता है. अंतिम पायदान पर कुछ लोग इसका इस्तेमाल, अगर मिस्ड काल का जबाब न आये और काम अपना अटका हो तो, फोन लगा कर बातचीत के लिए भी करते हैं.
सब्जी और अन्य जरुरत की चीजें जो खराब होने और खत्म हो जाने पर खरीदी जाती हैं के विपरीत फोन नये फोन के माँडल आ जाने पर परिवार में और आपकी समाज में स्टेटस के हिसाब से खरीदा जाता है.
मैं एक आई फोन परिवार का हिस्सा हूँ. हमारे घर में मम्मी के पास लेटेस्ट आई फोन ७ है. पापा के पास उसके एक पहले वाला आई फोन ६ एस है..और उनका पुराना आई फोन ६ मेरे पास है. यह क्रम इसी क्रम में नये मॉडल आने पर बदल जायेगा जैसे की अब तक बदलता रहा है.
मम्मी के पास सेल्फी के लिए एक सेमसंग का लेटेस्ट मॉडल भी है. पापा सेल्फी कम खींचते हैं मगर उनका काम आई फोन से चल जाता है.  उनकी सेल्फी भी अक्सर मम्मी ही सेमसंग से खींच देती हैं. उनके पास एक फोटोशाँप ५०३० है जो ५० साल के इंसान को ३० साल का बना कर दिखाता है. वो अपनी और पापा की सेल्फी इस साफ्टवेयर से पास करा कर शॆयर करती हैं. मित्रों की वॉव और लाईक ही उनके जीवन का लक्ष्य है.
मेरे फेस बुक पर मेरी क्लास के बहुत बच्चे ओर २०० अलग से फ्रेंण्ड हैं. आश्चर्य है कि इनमें से ११ लोगों को मैं पर्सनली भी जानती हूँ. इट इज ए बिग एचिवमेन्ट इन दिस फोन ऐरा....आई फील प्राऊड...कितनी लकी हूँ न मैं....कभी कभी सेलिब्रेटी वाली फीलिंग आती है.
अगर ये फोन न होता तो दुनिया कितनी सूनी होती...मैं तो कल्पना भी नहीं कर सकती. तब मैं भला अपने बेस्ट फ्रेण्ड  राहुल से कैसे कनेक्ट हो पाती?? आई कान्ट इवन थिंक...वैसे मिली तो अभी नहीं हूँ उससे मगर उसके बिना कितना अधूरा सा होता ये जीवन!!
राहुल का सपना है कि एक दिन वो ऊबर टैक्सी चलायेगा..काश!! किसी दिन जब मैं अकेली टैक्सी बुलाने लगूँगी..तब राहुल ड्राईव करता हुआ मेरे दर पर आये..
आई एम सो एक्साईटेड...इस फोन ने जीवन को कितना रसमय बना दिया है..एक परपज दिया है जीने का..
कैसे होंगे उस युग के लोग जब आई फोन और सेमसंग नहीं रहा होगा..
मुझसे तो सोचा भी नहीं जा रहा...
-समीर लाल ’समीर’
#jugalbandi
#जुगलबंदी



Indli - Hindi News, Blogs, Links